MP 7 NEWS

Search
Close this search box.

Sir: आखिर रो ही दिया शर्मा जी ने! भर आया गला, वक्त था गाँव से विदाई का…पढ़िए।

कुकड़ेश्वर – वर्षो से दुरस्त गाँव में रहकर, शिक्षा की अलख जगाकर, गाँव के नन्हे छात्र छात्रो के उज्ज्वल भविष्य का निर्माण कर, निष्कलंक 20 वर्ष 2 माह व 10 दिन एक ही छोटे से गाँव कड़ी खुर्द में रहकर शिक्षा विभाग में सेवारत रहे। शिक्षक बद्रीलाल शर्मा शासकीय माध्यमिक विद्यालय कड़ी खुर्द का 31 अक्टूबर को 62 वर्ष पूर्ण करने पर सेवा निवृति हो गयी है। नवम्बर माह के प्रथम सप्ताह में बद्रीलाल शर्मा शिक्षक द्वारा गाँव कड़ी खुर्द के सभी गांवसियों के लिए स्नेहभोज रखा। शर्मा निरन्तर 20 वर्षो तक कड़ी खुर्द गाँव में ही निवास करते रहे व कड़ी खुर्द के सरकारी स्कुल में ही शिक्षा प्रदान करते रहे। सेवानिवृति पर गाँव में शर्मा परिवार द्वारा अपने घर जाने से पूर्व ग्रामवासियो के लिए एक ऐतिहासिक आयोजन रखा।

इस आयोजन में पुरे गाँव के महिला, पुरुष बच्चे शामिल हुए। साथ ही बद्रीलाल शर्मा के परिवारजन भी इस ऐतिहासिक कार्यक्रम के साक्षी बने। कार्यक्रम में शासकीय बालक संकुल/ कन्या संकुल के प्रभारी प्राचार्य प्रतिभा कोठारी, ललित मालवीय, पूर्व प्राचार्य सुनीता श्रीमाल, जनशिक्षक राकेश पाटीदार, गिरजाशंकर मालवीय, पूर्व जन शिक्षक विनोद मालवीय, स्कुल प्रधानाध्यापक डिम्पल जोशी, समरथगिर गोस्वामी, कन्हैयालाल चांदनिया सहित सेंकडो शिक्षक शिक्षिकाएं उपस्थित थी। मंचासीन अतिथियों द्वारा माँ सरस्वती की पूजा अर्चना कर कार्यक्रम की शुरुवात की।

कार्यक्रम में ग्रामीणजन ने बद्रीलाल शर्मा को साफा बांधकर, पुष्पमाला पहनाकर अभिवादन किया। छात्र छात्राओ ने अपने गुरु को भेट प्रदान की। बद्रीलाल शर्मा उद्बोद्धन देने के बाद भावुक हो गए और भरे गले से रो पड़े, और आँखों से आंसू झलक ही गए। उपस्थित शिक्षको ने शर्मा को सम्भालते हुए ढाढस बंधवाया। सभी का स्नेहभोज हुआ। ततपश्चात पुरे गाँव वासियो ने सामूहिक रूप से अपने गांव के शिक्षक की सेवानिवृति पर बद्रीलाल शर्मा का कड़ी खुर्द में भव्य झुलुस शोभायात्रा के रूप में डीजे के साथ निकाला। जगह जगह बद्रीलाल शर्मा का साफा श्रीफल, सॉल, पुष्पमाला से स्वागत अभिवादन करते हुए बधाई दी व उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

MP7 News
Author: MP7 News

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज