MP 7 NEWS

Search
Close this search box.

Kuk: विजेता टीम को 1 लाख और उप विजेता टीम को 51 हजार का दिया पुरूस्कार…पढ़िए।

पिपल्याहाडी ने देवरान को 41 रन से हराकर सुंदरलक्ष्मी क्रिकेट टुर्नामेंट पर किया कब्जा

खेल जीवन में संघर्ष से सफलता का सूत्र सिखाती है- मंगेश संघई

कुकड़ेश्वर – मनासा तहसील क्षेत्र के गांव हतुनिया में गांव तलाऊ के समाजसेवी स्व. लक्ष्मीनारायण राठौर की स्मृति में राठौर परिवार एंव सुंदर लक्ष्मी मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा आयोजित 11 दिवसीय टेनिस बाल क्रिकेट स्पर्धा का समापन बुधवार को हुआ। प्रतियोगिता का फायनल मैच पिपल्याहाडी और देवरान के बीच हुआ। पिपल्या हाडी ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 12 ओवर में 141 रन का लक्ष्य देवरान की टीम को दिया। देवरान टीम के बल्लेबाज पिपल्याहाडी के गेेंदबाजो के सामने कुछ खास नही कर पाएं और 100 रन पर ही ऑल आउट हो गई।

पिपल्याहाडी ने 41 रन से देवरान को हराकर स्पर्धा पर कब्जा जमाया। 11 दिवसीय टेनिस बाल क्रिकेट स्पर्धा के समापन पर अतिथि प्रदेश कांग्रेस महामंत्री मंगेश संघई, जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष चंद्रशेखर पालीवाल, पूर्व किसान कांग्रेस जिलाध्यक्ष ओमरावत, स्व. लक्ष्मीनारायण राठौर की धर्मपत्नि श्रीमती सुंदरबाई राठौर, एडवोकेट कैलाश राठौर मंचासीन थे। मंगेश संघई ने कहा कि ग्रामीण प्रतिभाओ ने 11 दिनो तक मैदान पर अपनी प्रतिभा दिखाई। जिस उददेश्य को लेकर राठौर परिवार द्वारा टुर्नामेंट का आयोजन किया गया था कि ग्रामीण खिलाडीयो को आगे लाया जाएं। फायनल मुकाबला काफी अच्छा रहा। दोनो ही टीमो के खिलाडीयो ने अच्छा खेलने के साथ ही अनुशासन का परिचय दिया। खेल में हार जीत होती रहती है। हमेंशा यह याद रखे कि जीत कोई भी हो उस पर पूर्ण विराम कभी नहीं लगाए और हारने वाले निराश नही हो। वे अगली बार जीत के लिए मेंहनत करे। खेल जीवन में संघर्ष से सफलता का सूत्र सिखाती है।

राठौर परिवार ने 1 लाख और 51 हजार का पुरूस्कार देकर खिलाडीयो को खेल के क्षेत्र में खिलाडीयो की आर्थिक समस्यां को दुर करने का काम किया है। जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष चंद्रशेखर पालीवाल ने कहा कि जैसा स्व. श्री राठौर का स्वभाव और मानव सेवा के प्रति सोच थी उसी सोच और विचारो को आगे बढाने का काम राठौर परिवार और ट्रस्ट कर रहा है। सभी खिलाडीयो ने यहां पर अच्छी क्रिकेट का प्रर्दशन किया है। हार जीत तो खेल में होती रहती है। लेकिन जीवन में कभी भी हारने वाले खिलाडी अपना होंसला नही खोए और कडी मेहनत कर अगली बार जहां पर भी टुर्नामेंट हो वहां पर पिपल्याहाडी टीम को हराने का प्रयास करे।

राठौर परिवार के एडवोकेट कैलाश राठौर ने कहा कि इस आयोजन को सफल बनाने में हतुनिया की टीम और सभी ग्रामीण टीमो ने जो सहयोग दिया उसी का परिणाम है कि यह आयोजन सफल हो पाया है। पिताजी की याद में खेल के साथ ही ट्रस्ट मानवसेवा के क्षेत्र में लगातार काम करती रहेगी।

ट्रस्ट द्वारा विजेता टीम पिपल्याहाडी को 1 लाख और शील्ड एंव उपविजेता टीम को 51 हजार एंव शील्ड अतिथियो और स्व. राठौर की धर्मपत्नि श्रीमती राठौर के हाथो दिया गया। स्पर्धा में मैन आफ दी सिरिज हतुनिया के खिलाडी विकास गुर्जर को दिया गया। इस दौरान राठौर परिवार के माधवलाल राठौर, रामचंद्र राठौर, जगदीश राठौर, शांतिलाल राठौर, हतुनिया के उमेश व्यास, रतनलाल सोनार्थी, डॉ. जयंतिप्रसाद गुप्ता, पप्पु हाडा सहित खिलाडी उपस्थित थे। संचालन पूर्व जनपद सदस्य लखन तुगनावत ने किया और आभार राठौर परिवार के रवि राठौर ने माना।

MP7 News
Author: MP7 News

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज